गाड़ी के नंबर प्लेट पर A/F का क्या मतलब होता है ?

अन्य ख़बरें

गाड़ी नई हो या पुरानी प्रत्येक वाहन को मोटर वाहन अधिनियम 1989 के तहत पंजीकृत होना चाहिए बिना किसी रजिस्ट्रेशन नंबर के गाड़ी चलाना गैर कानूनी माना जाता है जब भी कोई गाड़ी दुपहियाए तिपहिया या चार पहिया आदि जब शोरूम से निकलती है तो उसको एक टेम्पररी नम्बर दिया जाता है यदि किसी गाड़ी को टेम्पररी नम्बर नही दिया जाता है तो उसकी नम्बर प्लेट पर ।A/F लिखा जाता है। A/F का मतलब होता है “Applied For” इसका मतलब यह है कि गाड़ी के मालिक ने गाड़ी के नए नंबर के लिए अप्लाई किया हुआ है और जब तक गाड़ी का परमानेंट नम्बर नही मिल जाता है

तब तक उसको नम्बर प्लेट पर A/F लिखने की छूट दी गयी है।क्या नम्बर प्लेट पर A/F गैर कानूनी है?जी हाँ यदि आप A/F लिखी नंबर प्लेट की गाड़ी को एक सप्ताह से अधिक तक चलाते हो तो ऐसा करना गैर कानूनी है क्योंकि क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय अधिकारी(R T O) ने आपको A/F लिखने की सुविधा सिर्फ उस अवधि तक के लिए दी है जब तब कि आपको परमानेंट रजिस्ट्रेशन नम्बर नही मिल जाता है जैसे ही आपको परमानेंट नम्बर मिलता है आपको अपनी गाड़ी पर A/F जगह परमानेंट नम्बर लिखवाना होगा

नियम का उल्लंघन करने पर कितना जुर्माना होगा? बिना रजिस्ट्रेशन नंबर वाला वाहन चलाना एक अपराध है केंद्रीय मोटर वाहन नियम (C MVR) पंजीकरण के बिना वाहन चलाने की अनुमति नहीं देते हैं A/F लिखवाकर गाड़ी चलाना भी अपराध की श्रेणी में आता है लोगों में यह एक गलत धारणा है कि लोग लंबे समय तक अपनी गाड़ी की नम्बर प्लेट पर,A/F लिखवाकर चला सकते हैं और पुलिस कुछ नही कहेगी ऐसा सोचना गलत है और यदि आप बिना नबंर की गाड़ी चलाते पकडे गए तो आपको 10000 रुपये का जुर्माना या आपकी गाड़ी भी जब्त की जा सकती है

पंजीकरण संख्या एक सप्ताह के भीतर प्राप्त कर लिया जाना चाहिए हालांकि जाँच अभियान के दौरान अधिकारियों ने पाया कि लोगों ने एक महीने बाद भी वाहनों का पंजीकरण नही कराया था हालांकि अधिकांश मामलों में यह डीलरों की गलती है ष्जिन लोगों को अपने डीलरों से वाहन पंजीकरण संख्या प्राप्त करने में समस्या आ रही है वे (RTO) के साथ शिकायत दर्ज कर सकते हैं अधिकारीयों ने पाया है कि लगभग हर डीलर ने नियमों का उल्लंघन किया है अब आरटीओ के पास यह अधिकार है कि वह नियमों का उल्लंघन करने वाले डीलरों का ट्रेड सर्टिफिकेट ख़त्म करने का नोटिस दे सकता है

प्रत्येक डीलर को अलग.अलग प्रकार के वाहन बेचने के लिए अलग.अलग ट्रेड सर्टिफिकेट (trade certificate) लेने पड़ते है डीलर द्वारा नए वाहन के लिए जारी किये गए ट्रेड सर्टिफिकेट नंबर को पंजीकरण संख्या नही माना जाना चाहिए. ट्रेड सर्टिफिकेट नंबर एक ऐसी संख्या होती है जो कि डीलर को RTO द्वारा आवंटित की जाती है जिसे डीलर नए वाहनों की बिक्री करने पर नम्बर प्लेट पर चिपका सकता है लेकिन इस संख्या को लम्बे समय तक टेम्पररी नंबर के तौर पर इस्तेमाल करना अपराध है ट्रेड सर्टिफिकेट नंबर चिपकाकर गाड़ी तभी तक चलायी जा सकती है जब तक कि गाड़ी का परमानेंट नम्बर नही मिल जाता है और यह अवधि ज्यादा से ज्यादा एक सप्ताह तक हो सकती है

यहाँ पर यह सवाल उठना बहुत लाजिमी है कि सरकार वाहन रजिस्ट्रेशन को लेकर इतनी सतर्क क्यों हैं इसका सबसे बड़ा कारण सुरक्षा से जुड़ा हुआ हैं जिसमें ऐसा हो सकता है कि कोई व्यक्ति अपराध ,अपहरण /आतंकवाद /एक्सीडेंट करने के लिए ऐसी गाड़ी का इस्तेमाल करे जिसका कि नंबर ही नही आया है ऐसी हालत में जुर्म करने वाले को पकड़ना मुश्किल काम हो जायेगा इसलिए नए वाहन का जल्दी से जल्दी रजिस्ट्रेशन होना ही सभी के हित में हैं रजिस्ट्रेशन कराने का एक और फायदा यह है कि यदि किसी की बिना नंबर प्लेट वाली नयी गाड़ी चोरी हो जाती है तो पुलिस के लिए ऐसी गाड़ी को खोजना बहुत मुश्किल होगा |
सोर्स : जागरण जोश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *