सर्कुलेटिंग एरिया सौंदर्यीकरण भगवान भरोसे।

जयनगर आस -पास कि ख़बरें

जयनगर  रेलवे का सर्कुलेटिंग एरिया अधिक्रमण के चपेट में है। यात्री सुविधाओं के लिये सर्कुलेटिंग एरिया को अभी तक रेलवे प्रशासन के द्वारा सौन्दरजिकर्ण  से किया गया है। सर्कुलेटिंग एरिया में फैली गंदगी एवं लोगो द्वारा अतिक्रमण किये जाने से रेल यात्रिओ को असुविधाएं का सामना करना पड़ता है। भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित जयनगर रेलवे स्टेशन को ग्रेड ए का दर्जा प्राप्त है। प्रति दिन नेपाल के भी हजारो नागरिक यहाँ आकर देश के विभिन्न महानगरों के लिये रवाना होते है। सुविधाओ के अभाव में यात्रि परेशानियां का सामना करने पर मजबूर है।
विगत पांच महीनों में चार बार रेलवे के वरीय अधिकारी सीमावर्ती जयनगर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण कर चुके है। समस्तीपुर के डीआरएम एवं एडीआरएम अपने निरीक्षण के क्रम में सर्कुलेटिंग एरिया को जल्द सौन्दरजिकर्ण करने की बात कही थी। लेकिन पांच महीना बीत गये है अभी तक सर्कुलेटिंग एरिया को सौंदर्यीकरण नही की गई है। और न ही ग्रेड ए की दर्जा प्राप्त होने वाली  सुविधाओं से स्टेशन को लैस किया गया है। सामाजिक संस्थाओं एवं बुद्धिजीवियो का कहना है कि रेलवे के वरीय अधिकारियो के द्वारा बार बार स्टेशन का निरीक्षण किया जाता है। लेकिन अधिकारियो के दवरा कही गई विकास की बाते जमीनी स्तर पर अमल नही होती है।
स्टेशन से लेकर शाहिद चौक करीब 500 मीटर तक रेलवे की सर्कुलेटिंग एरिया पूरी तरह से अधिक्रमण के चपेट में है। दर्जनों लोग अवैध ढंग से रेलवे का सर्कुलेटिंग एरिया को अतिक्रमण कर इसका उपयोग अपने फायदे के लिये करते है। रेलवे अधिकारियों का अतिक्रमण कर्ताओ से सांठ गांठ हो सकता है इससे इंकार नही किया जा सकता है। विगत 14 जुलाई को समस्तीपुर के डीआरएम, 11 अगस्त को एडीआरएम, 12 अगस्त को डीआरएम एवं एक सितम्बर को डीआरएम स्टेशन को निरीक्षण को लेकर जयनगर दौरा कर चुके है। प्रतेयक निरीक्षण के क्रम में अधिकारियो ने सर्कुलेटिंग एरिया को जल्द सौन्दरजिकर्ण करने की बात कही थी। लेकिन स्थिति जस का तस है।
कहते है अधिकारी ;-
समस्तीपुर के सीनियर डीसीएम बीरेंद्र कुमार ने बताया कि सर्कुलेटिंग एरिया को अतिक्रमण से मुक्त कराकर चारदीवारी से घेरा जायगा। दिसम्बर महीने में चारदीवारी निर्माण कार्य होने की संभावना है। इसके बाद सौन्दरजिकर्ण कि जायगी। प्रक्रिया प्रोसेस में है।

सुनील कुमार कि रिपोर्ट ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *