क्या बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ.. अभियान को भूल गए हैं शिक्षक

हरलाखी/मधुबनी/संवाददाता एक तरफ जहां राज्य सरकार सूबे में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के दावे करती है वहीं सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाली बालिकाएं एमडीएम रसोइया के रहने के बावजूद खुद ही बर्तन भी धोती हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि जब स्कूलों में बर्तन धोएगी बेटियां तो कैसे पढ़ेगी बेटियां! क्या बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान […]

आगे पढ़े